Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
धर्मं / ज्योतिष

शारदीय नवरात्रि 2021 5वां दिन: आज करें मां स्कंदमाता की पूजा, यश और धन के साथ मिलेगा संतान सुख, जानिए पूजा की विधि

शारदीय नवरात्रि 2021 5वां दिन: नवरात्रि के 5वें दिन मां स्कंदमाता की पूजा का समय दोपहर 3 बजे तक ही है.

Advertisement

शारदीय नवरात्रि 2021 5वां दिन: आज करें मां स्कंदमाता की पूजा, यश और धन के साथ मिलेगा संतान सुख, जानिए पूजा की विधि
मां स्कंदमाता मां दुर्गा का पांचवां रूप हैं।
Shardiya Navratri 2021 5th Day: आज यानी 11 अक्टूबर को शारदीय नवरात्रि का पांचवा दिन है और इस दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है. आपको बता दें कि इस बार नवरात्रि में एक दिन घट रहा है और इसलिए नवरात्रि नौ दिन नहीं 8 दिन की होगी. यानी एक ही दिन दो तिथियां पड़ रही हैं। पंचमी तिथि आज दोपहर 3.04 बजे तक ही रहेगी। इसलिए पंचम नवरात्रि की पूजा 3 बजे से पहले कर लेनी चाहिए। पांचवे नवरात्र में मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है और मां अपने भक्तों पर प्रसन्न होकर उन्हें यश, बल, धन और संतान सुख का आशीर्वाद देती हैं.

मां स्कंदमाता का रूप बहुत ही अनोखा है और उनकी चार भुजाएं हैं। माता की दोनों भुजाओं में कमल के फूल हैं। मां एक हाथ से आशीर्वाद दे रही हैं। जबकि चौथे हाथ से पुत्र स्कंद को गोद में लिया गया है। मां स्कंदमाता की सवारी हैं और माना जाता है कि उनकी मां पुत्र कार्तिकेय यानी स्कंद की मां होने के कारण स्कंदमाता हैं। यानी उन्हें भगवान कार्तिकेय की माता के रूप में पूजा जाता है। यह भी पढ़ें- HP गैस के उपभोक्ता हैं तो नवरात्र में जीत सकते हैं 10 हजार रुपये का सोना, ये है ऑफर

मां स्कंदमाता की पूजा विधि
मां स्कंदमाता को पीले और सफेद रंग बहुत पसंद हैं और अगर इस रंग के कपड़े पहनकर उनकी पूजा की जाती है, तो माता प्रसन्न होती हैं। इस दिन प्रात:काल स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर मंदिर में माता के चित्र के सामने दीपक जलाएं। इसके बाद अगियारी करें और उसमें लौंग, कपूर, घी का भोग लगाएं। नवरात्रि की पूजा में दुर्गा चालीसा या दुर्गा सप्तशती का पाठ करना अच्छा माना जाता है। इसके बाद मां की आरती करें और भोग लगाएं। पूजा में मां स्कंदमाता को केला या दूध का हलवा चढ़ाना चाहिए।

मां स्कंदमाता की पूजा का महत्व
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि के पांचवें दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है और माना जाता है कि जो व्यक्ति संतान सुख के लिए पूरे विधि-विधान से मां की पूजा करता है उसे संतान सुख की प्राप्ति होती है. साथ ही यश, पराक्रम और धन में वृद्धि होती है।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

Dwijapriya Chaturthi 2022: जानिए द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी तिथि और शुभ मुहूर्त

Live Bharat Times

जून का तीज-त्योहार : साल भर सभी एकादशियों के व्रत के बराबर शुभ कर्म करने वाली निर्जला एकादशी 10 जून को, 14 जून को पूर्णिमा

Live Bharat Times

दिवाली क्यों और कब से मनाई जाती हैं। जाने पूरी बात।

Live Bharat Times

Leave a Comment