Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
खेल

7 कंपनियों के बीच हुई थी IPL की नई टीम को खरीदने की टक्कर, जानिए किसने और कितनी बोली लगाई

दिग्गज उद्योगपति संजीव गोयनका और अंतरराष्ट्रीय इक्विटी फर्म Irelia Company Pte Ltd (CVC Capital) ने IPL की दो नई टीमों के लिए कुल 12,715 करोड़ रुपये की बोली लगाई।

Advertisement

आईपीएल 2022 से टूर्नामेंट में 10 टीमें होंगी।
आईपीएल की दो नई टीमों से पर्दा उठ गया है। अब आईपीएल 2022 से लखनऊ और अहमदाबाद की टीमें भी टूर्नामेंट में खेलती नजर आएंगी। दिग्गज उद्योगपति संजीव गोयनका और अंतरराष्ट्रीय इक्विटी फर्म Irelia Company Pte Ltd (CVC Capital) ने IPL की दो नई टीमों के लिए कुल 12,715 करोड़ रुपये की बोली लगाई। बोली के दौरान अहमदाबाद, लखनऊ और इंदौर के लिए केवल तीन शहरों में बोली लगाई गई थी। गोयनका के आरपी-एसजी ग्रुप को लखनऊ की टीम मिली जबकि सीवीसी कैपिटल ने अहमदाबाद की टीम को खरीदा। गोयनका ने टीम के लिए सबसे ज्यादा 7090 करोड़ रुपये की बोली लगाई और लखनऊ फ्रेंचाइजी हासिल की। वहीं, सीवीसी कैपिटल ने 5625 करोड़ रुपये के साथ अहमदाबाद फ्रेंचाइजी का नाम अपने नाम किया है।

नई टीमों के लिए बोली प्रक्रिया करीब सात घंटे तक चली। बीसीसीआई ने गहन जांच के बाद विजेताओं की घोषणा की। इसमें वित्तीय बोली दस्तावेज खोलने के बाद तकनीकी जांच भी शामिल थी। आरपी-एसजी, अदानी ग्रुप, एचटी मीडिया प्राइवेट लिमिटेड, टोरेंट फार्मा, ऑर्बिंडो फार्मा, ऑल कार्गो, सीवीसी, कंसोर्टियम (ग्रुप) कोटक ग्रुप और मैनचेस्टर यूनाइटेड के स्वामित्व वाली ग्लेज़र्स तकनीकी जांच के बाद अंतिम दौर के लिए बोली लगाने के लिए पात्र हैं। इक्विटी फर्म के माध्यम से थी।

धोनी से जुड़ी कंपनी ने भी की कोशिश
रीति स्पोर्ट्स, जिसे भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की प्रबंधन फर्म के रूप में जाना जाता है, ने भी बोली लगाई थी, लेकिन तकनीकी स्तर पर इसे अस्वीकार कर दिया गया था क्योंकि अधिकारियों का मानना ​​​​था कि यह एक उद्योगपति से जुड़ा था, जिसके रिश्तेदारों के पास पहले से ही इसका स्वामित्व था। आईपीएल फ्रेंचाइजी के स्वामित्व में है। इस प्रकार अज्ञात कंपनी ऑल कार्गो कंपनी ने भी बहुत ध्यान आकर्षित किया क्योंकि माना जाता है कि इसे बीसीसीआई के एक शक्तिशाली प्रशासक और विपक्षी दल के एक प्रसिद्ध राजनेता का समर्थन प्राप्त है।

अदानी-ग्लेसर पिछड़ा
फ्रेंचाइजी खरीदने की दौड़ में जो बड़ी कंपनियां पिछड़ रही हैं उनमें गौतम अडानी का अडानी ग्रुप भी शामिल है, जिसने करीब पांच हजार करोड़ रुपए की बोली लगाई थी। फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ग्लेसर और टोरेंट ग्रुप की बोलियां भी शीर्ष दो बोलियों में शामिल नहीं थीं। अदाणी समूह के प्रतिनिधियों को बोली के दौरान बीसीसीआई के प्रायोजक के साथ बाद में परिसर से बाहर जाने के लिए कहा गया क्योंकि यह नियमों का उल्लंघन था।

22 कंपनियों ने खरीदे थे टेंडर दस्तावेज
बाईस कंपनियों ने 10 लाख रुपये में टेंडर दस्तावेज खरीदा था लेकिन नई टीमों का बेस प्राइस 2,000 करोड़ रुपये होने की वजह से सिर्फ पांच या छह गंभीर दावेदार ही दौड़ में थे। गोयनका की लगभग 1 बिलियन डॉलर की बोली एक बड़ी राशि है और संभवत: लीग के इतिहास में सबसे ऊंची बोली है। नई टीमों के लिए शीर्ष सात कंपनियों की बोली राशि इस प्रकार थी-

सभी राशि (करोड़ भारतीय रुपये में)
1) आरपीएसजी: 7090 (अहमदाबाद), 7090 (लखनऊ) 4790 (इंदौर)

2) इरेलिया पीटीई लिमिटेड (सीवीसी): 5625 (अहमदाबाद), 5166 (लखनऊ)

3) अदानी स्पोर्ट्सलाइन: 5100 (अहमदाबाद), 5100 (लखनऊ)

4) सभी कार्गो: 4124 (अहमदाबाद), 4304 (लखनऊ)

5) ग्लेज़र्स (मैनचेस्टर यूनाइटेड): 4128 (अहमदाबाद), 4024 (लखनऊ)

6) कोटक समूह: 4513 (अहमदाबाद), 4512 (लखनऊ)

7) टोरेंट फार्मा: 4653 (अहमदाबाद), 4300 (लखनऊ)

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

IPL 2023: विराट कोहली ने KKR के खिलाफ 54 रनों की पारी के साथ बनाया यह विश्व रिकॉर्ड

Live Bharat Times

IND Vs BAN Test Match: लंच तक भारतीय गेंदबाजों ने बहाया पसीना लेकिन नहीं ले पाए एक भी विकेट, शंटो-हसन की फिफ्टी

Admin

टीम इंडिया के 5 खिलाड़ी जिनका इंटरनेशनल करियर लगभग खत्म! हुआ करते थे टीम के स्टार

Admin

Leave a Comment