Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
खेल

न्यूजीलैंड के खिलाफ अहम मुकाबले में प्लान बी लेकर आएगी टीम इंडिया, पूरी रणनीति तैयार

विराट कोहली पहली और आखिरी बार बतौर कप्तान टी20 वर्ल्ड कप खेल रहे हैं.

Advertisement

मंगलवार को न्यूजीलैंड की हार के बाद भारतीय खेमे में थोड़ी राहत है। अब उनकी नजर न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत पर है। नेट रन रेट, जो अटकता दिख रहा था, अब दबाव कम हो गया है। आईसीसी जैसे ‘मल्टी टीम इवेंट्स’ में भी ऐसा होता है कि उनके प्रदर्शन के साथ-साथ अन्य टीमों के प्रदर्शन पर भी नजर रखी जाती है। ऐसे में टीम की रणनीति में बदलाव होता है। पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के अलावा टीम इंडिया भी इस बात से बेखबर नहीं है कि साउथ अफ्रीका और वेस्टइंडीज के बीच मैच में क्या हुआ। बुधवार को भारतीय टीम ‘वैकल्पिक’ अभ्यास करेगी। यानी जरूरी नहीं कि सभी खिलाड़ी अभ्यास करें। लेकिन टीम में इस बात पर सहमति बनी है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ वे स्ट्राइक रोटेट की रणनीति से मैदान में उतरेंगे, स्ट्राइक रेट से नहीं। इसका सीधा सा मतलब है कि बल्लेबाज बड़े शॉट खेलने के बजाय एक दो रन लेकर स्कोरबोर्ड को मजबूत करेंगे।

वेस्टइंडीज की टीम टी20 वर्ल्ड कप की डिफेंडिंग चैंपियन थी। इससे पहले उन्होंने 2012 में टी20 वर्ल्ड कप भी जीता था। वेस्टइंडीज इकलौती टीम है जिसने दो बार यह खिताब जीता है। लेकिन अपने पहले ही मैच में वह महज 55 रन पर ढेर हो गईं। इंग्लैंड के खिलाफ उस मैच में दुबई की पिच का इस्तेमाल किया गया था। हालांकि इसके बाद भारत और पाकिस्तान के बीच एक ही पिच पर मैच हुआ। जिसमें दोनों टीमों ने मिलकर करीब 300 रन बनाए। वेस्टइंडीज का अगला मैच साउथ अफ्रीका की टीम के खिलाफ था। टूर्नामेंट में बने रहने के लिए उसे जीत की दरकार थी। लेकिन कैरेबियाई खिलाड़ियों ने स्ट्राइक रोटेट करने से ज्यादा स्ट्राइक रेट पर ध्यान दिया।

वेस्टइंडीज टीम से सीखी जाने वाली सीख
वेस्टइंडीज ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 144 रनों का लक्ष्य रखा था. जिसे दक्षिण अफ्रीका ने मैच के अंत में 10 गेंद शेष रहते हासिल कर लिया। यह बात तब और स्पष्ट हो जाएगी जब हम वेस्टइंडीज की बल्लेबाजी का आकलन करेंगे। निकोलस पूरन ने 172 के स्ट्राइक रेट से 12 रन बनाए। क्रिस गेल ने 100 के स्ट्राइक रेट से 12 रन बनाए। कीरोन पोलार्ड ने 130 के स्ट्राइक रेट से 26 रन बनाए। आंद्रे रसेल ने 125 के स्ट्राइक रेट से 5 रन बनाए। ड्वेन ब्रावो 160 के स्ट्राइक रेट से 8 रन बनाए। यानी 6 बल्लेबाजों ने 100 से ज्यादा के स्ट्राइक रेट से रन बनाए। सभी ने बड़े शॉट खेलने की कोशिश की। लेकिन किसी ने भी क्रीज पर टिके रहने या स्ट्राइक रोटेट कर रन बनाने की कोशिश नहीं की। 56 गेंदों पर कोई रन नहीं बना। 9 ओवर से ज्यादा की गेंद बड़े शॉट खेलने की कोशिश में बेकार गई। जबकि मैच जीतने वाली दक्षिण अफ्रीकी टीम ने 34 डॉट गेंद खेली। यह अलग बात है कि उनके बल्लेबाज मार्कराम ने भी 197 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए।

फैसला मैच की रणनीति को देखते हुए करना है।
क्रिकेट के इतिहास पर एक नज़र डालें और देखें कि एक ओवर में 6 छक्के या 6 चौके लगाने पर कितने मैच होंगे। ऐसा कई बार हुआ है। दरअसल, विरोधी टीम की अच्छी गेंदबाजी, पिच के मिजाज या किसी अन्य कारण से बड़े शॉट नहीं लग रहे हों तो एक दो रन लेना ही समझदारी है। पाकिस्तान के खिलाफ मैच में भारतीय टीम के ओपनर पहले दो ओवर में ही पवेलियन लौट गए थे.

विराट कोहली ने सिर्फ 116 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए। लेकिन उनके 57 रनों की बदौलत भारतीय टीम सम्मानजनक स्कोर पर पहुंच गई, नहीं तो ज्यादातर बल्लेबाजों ने मध्यक्रम में हवाई शॉट खेले। जिसका नतीजा यह रहा कि आखिरी ओवर में भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी जैसे गेंदबाज क्रीज पर थे. सबक सरल है कि हर बल्लेबाज के पास प्लेइंग 11 में ‘किल मारने का लाइसेंस’ नहीं होना चाहिए। यानी हर बल्लेबाज को सिर्फ इस इरादे से नहीं उतरना चाहिए कि उसे सिर्फ चौकों और छक्कों की भाषा में ही बात करनी है।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

टी-20 वर्ल्ड कप टीम का चयन इंग्लैंड दौरे से:सौरव गांगुली बोले-आयरलैंड और साउथ अफ्रीका सीरीज बस एक टेस्ट, असली टीम इंग्लैंड में चुनी जाएगी

Live Bharat Times

दुसरे मैच से भी बाहर हो सकते है विराट कोहली

Live Bharat Times

दीपक ने उम्मीद जगाई, वह जीत गया

Live Bharat Times

Leave a Comment