Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
Other

माता लक्ष्मी के बड़ी बहन अलक्ष्मी हैं बिल्कुल विपरीत , जानिए उनके स्वभाव के बारे में.

अलक्ष्मी को माता लक्ष्मी की बड़ी बहन माना जाता है और उन्हें दुर्भाग्य की देवी कहा जाता है। इसलिए उनकी तस्वीर कहीं नहीं लगाई गई है। ऐसा माना जाता है कि उनका जन्म समुद्र मंथन के दौरान हुआ था।

Advertisement

लक्ष्मी और अलक्ष्मी
शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी को समर्पित है। माँ लक्ष्मी जो भगवान विष्णु की पत्नी हैं और उन्हें धन और वैभव की देवी कहा जाता है। लेकिन क्या आपने कभी अलक्ष्मी देवी के बारे में सुना है? अलक्ष्मी देवी देवी लक्ष्मी की बड़ी बहन हैं। उनका अवतार भी समुद्र मंथन के दौरान हुआ था। शास्त्रों में मां अलक्ष्मी के स्वरूप को जगतजननी मां लक्ष्मी के बिल्कुल विपरीत बताया गया है।

ज्योतिषी डॉ. अरविंद मिश्रा का कहना है कि अलक्ष्मी और लक्ष्मी कभी साथ नहीं रहते। जहां दरिद्रता, दुख और गंदगी है, वहां अलक्ष्मी का वास है। नरक चतुर्दशी के दिन जब घर की साफ-सफाई आदि होती है तो अलक्ष्मी घर से निकल जाती है। इसके बाद दीपावली के दिन माता लक्ष्मी का आगमन होता है। जानिए अलक्ष्मी के बारे में रोचक जानकारी।

दुर्भाग्य की देवी हैं मां अलक्ष्मी
समुद्र मंथन के दौरान माता लक्ष्मी का अवतरण हुआ था। लेकिन उससे पहले माता अलक्ष्मी ने अवतार लिया था। ऐसा माना जाता है कि समुद्र मंथन के समय इनका जन्म कालकुट के बाद हुआ था। उनका रूप देवी लक्ष्मी के बिल्कुल विपरीत था। उन्हें दुर्भाग्य की देवी माना जाता है, इसलिए माता अलक्ष्मी का चित्र नहीं लगाया जाता है। माता अलक्ष्मी के प्रकट होने के समय वह एक बूढ़ी औरत थी। उसके बाल पीले थे, उसकी आँखें लाल थीं और उसका चेहरा काला था। समुद्र छोड़ने के बाद, देवी लक्ष्मी ने भगवान विष्णु को चुना जबकि माता अलक्ष्मी ने आसुरी शक्तियों का आश्रय लिया। इसलिए इनकी गिनती रत्नों में नहीं की जाती है। उनके प्रकट होने के समय देवताओं ने कहा था कि जिस घर में कलह होगी, वहां तुम निवास करोगे और हड्डी, कोयला, बाल और भूसी में रहोगे। झूठा झूठा, शाम को खाना खाने वालों को और बिना हाथ धोए खाने वालों को तुम गरीब बना दोगे।

शादी की मान्यता
लिंग पुराण के अनुसार अलक्ष्मी का विवाह दुसाह नाम के एक ब्राह्मण से हुआ था और पाताल लोक जाने के बाद वह यहां अकेली रह गई थी। इसके बाद वह पीपल के नीचे रहने लगी। ऐसा माना जाता है कि शनिवार को माता लक्ष्मी अपनी बड़ी बहन से मिलने आती हैं। इसलिए शनिवार के दिन पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इससे लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में सुख-समृद्धि आती है। हालांकि, ऐसी भी मान्यता है कि माता अलक्ष्मी का विवाह उद्दालक नामक महर्षि से हुआ था। लेकिन जब महर्षि उन्हें आश्रम ले गए तो माता अलक्ष्मी ने प्रवेश करने से मना कर दिया क्योंकि वहां साफ-सफाई बहुत थी। अलक्ष्मी ने ऋषि से कहा था कि वह केवल ऐसे घरों में निवास कर सकती है, जहां गंदगी, कलह, अधर्म हो। इस वजह से वह अपने पति के साथ कभी नहीं रह सकती थी। यही वजह है कि वह अपनी तस्वीर में हमेशा अकेली रहती हैं।

अलक्ष्मी के प्रभाव से बचने के उपाय
ज्योतिषाचार्य कहते हैं कि जिन घरों में धन हानि होती है, कलह होती है, वहां मां अलक्ष्मी का प्रभाव होता है। अगर आप घर को अलक्ष्मी से बचाना चाहते हैं तो साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें क्योंकि तब घर में लक्ष्मी का वास होता है। जहां लक्ष्मी होती है वहां से अलक्ष्मी चली जाती है।
छोटी दिवाली के दिन घर का कबाड़ निकालकर साफ-सफाई की जाती है. दरअसल ऐसा करने से अलक्ष्मी को घर से बाहर भेज दिया जाता है, ताकि दीपावली के दिन देवी लक्ष्मी घर में आ सकें. कबाड़, टूटे शीशे या धातु के बर्तन, किसी भी तरह के टूटे हुए सजावटी सामान, बेकार फर्नीचर आदि को नर्क माना जाता है। छोटी दिवाली तक इस कबाड़ को किसी भी तरह से घर से निकाल देना चाहिए।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

जम्मू-कश्मीर : जम्मू-कश्मीर पुलिस का एरिया वर्चस्व ऑपरेशन, बर्फबारी से पहले आतंकियों के खिलाफ कड़ा हमला

Live Bharat Times

अंकिता भंडारी हत्याकांड – आरोपी का रिसोर्ट बुलडोजर से तोडा गया

Live Bharat Times

कू येलो टिक के लिए कौन कर सकता है आवेदन, जानिए क्या है वेरिफिकेशन का तरीका

Live Bharat Times

Leave a Comment