Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
Other

इलायची, जिसका स्वाद लाजवाब होता है, इतनी महंगी क्यों होती है?

इलायची की कीमत: इलायची खरीदने के लिए आपको काफी पैसे खर्च करने पड़ते हैं और लोग इलायची गिनकर भी खरीदते हैं। ऐसे में जानते हैं इलायची की कीमत इतनी ज्यादा क्यों…

इलायची दुनिया के सबसे महंगे मसालों में से एक है। इसका एक किलो का पैकेट खरीदने के लिए आपको 90 डॉलर तक खर्च करने पड़ सकते हैं। इलायची कितनी भी महंगी क्यों न हो लेकिन आज चाय से लेकर मिठाई तक सभी इसका इस्तेमाल करते हैं। इसे मसालों की रानी भी कहा जाता है। आप जानते हैं कि यह बहुत महंगा होता है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इलायची इतनी महंगी क्यों है। तो आइए आज जानते हैं क्या है जवाब…

इसके महँगे होने का कारण यह है कि इसे प्राप्त करने में बहुत मेहनत लगती है। अगर एक किलो इलायची चाहिए तो 6 किलो तक कच्ची फली चाहिए। यानी जब पेड़ से 6 किलो इलायची तोड़ी जाती है तो उसमें से करीब 1 किलो इलायची निकलती है। इलायची एक छोटे अंडाकार आकार के फल से प्राप्त होती है, जिसका नाम फली है।

साथ ही खास बात यह है कि इसे दुनिया के कुछ खास इलाकों में ही उगाया जाता है, इसमें भारत का इडुक्की जिला भी शामिल है। एक बार इसके बीज बौने हो जाने पर किसानों को इसके लिए तीन साल तक इंतजार करना चाहिए। इसके बाद लंबे समय तक फसल काटने का काम चलता है और ये फल लंबे समय तक उगते हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि ये फली धीरे-धीरे पकती हैं और सभी एक ही समय पर नहीं पकती हैं।

इसका मतलब है कि उन्हें तोड़ने का काम लंबे समय तक चलता है और उन्हें तोड़ने का काम केवल विशेष कर्मचारी ही कर सकते हैं, जिन्हें इसके पकने की जानकारी होती है या नहीं, क्योंकि वे दिखने में एक जैसे होते हैं। हुह। इसके अलावा इसे न तो पकने से पहले तोड़ा जा सकता है और न ही इसे पूरी तरह से पकने दिया जाता है, क्योंकि इससे इसके अंदर के बीज जमीन में गिर जाते हैं। साथ ही इसके लिए कोई मशीन भी नहीं है और इलायची के फल तोड़ने के लिए मजदूरों की मदद लेनी पड़ती है, जो इसके फल एक-एक करके तोड़ते हैं.

Advertisement

दूसरी ओर, अधिक भूमि और अधिक मजदूरी लगाने के बाद भी इसका उत्पादन कम रहता है। एक हेक्टेयर की खेती में केवल 5-7 किलो इलायची का उत्पादन होता है। ऐसे में इसकी कीमत बहुत ज्यादा होती है। इस लागत के कारण, यह बहुत महंगा बिकता है और बहुत महंगे मूल्य पर बेचा जाता है।


वहीं ज्यादा जमीन और ज्यादा मजदूरी देने के बाद भी इसका उत्पादन कम रहता है। एक हेक्टेयर की खेती में केवल 5-7 किलो इलायची का उत्पादन होता है। ऐसे में इसकी कीमत बहुत ज्यादा होती है। इस लागत के कारण, यह बहुत महंगा बिकता है और बहुत महंगे मूल्य पर बेचा जाता है।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

आज आसमां नजर आएगा अनोखा नजारा, 2025 में फिर देखने को मिलेगा

Admin

सामान्य पेट्रोल और पावर पेट्रोल में क्या अंतर है? इस वजह से दोनों के रेट में अंतर है।

Live Bharat Times

आपके शरीर की हर कोशिका आपको सुन रही है, अपने आप से प्यार से बात करें

Live Bharat Times

Leave a Comment