Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारत

भारत बायोटेक के कोवैक्सीन को आज मिल सकती है WHO से मंजूरी, इन 13 देशों को पहले ही दिखा चुकी है हरी झंडी

डब्ल्यूएचओ द्वारा अब तक 6 टीकों को मंजूरी दी जा चुकी है। इनमें फाइजर/बायोएनटेक की कोमिरनेटी, एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड, जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन, मॉडर्न की एमआरएनए-1273, सिनोफार्म की बीबीआईबीपी-कोरवी और सिनोवैक की कोरोनावैक शामिल हैं।

Advertisement

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) आज मेड इन इंडिया कोविड-19 वैक्सीन (कोवैक्सिन) को हरी झंडी दिखा सकता है। आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) में भारत बायोटेक के कोवैक्सिन को शामिल करने के मुद्दे पर डब्ल्यूएचओ की तकनीकी समिति की आज बैठक होने वाली है। इससे पहले समिति वैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक से दो बार स्पष्टीकरण मांग चुकी है।

पिछले हफ्ते, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के तकनीकी सलाहकार समूह ने भारत बायोटेक को आपातकालीन उपयोग की सूची में भारत के स्वदेशी एंटी-कोविड वैक्सीन ‘कोवैक्सिन’ को शामिल करने के लिए अंतिम “लाभ-जोखिम मूल्यांकन” करने के लिए कहा। पूछा था कि तकनीकी सलाहकार समूह अब अंतिम मूल्यांकन के लिए आज यानि 3 नवंबर को बैठक करने जा रहा है।

भारत बायोटेक दो बार स्पष्ट कर चुका है
पिछली बैठक के बारे में डब्ल्यूएचओ ने कहा था, ‘तकनीकी सलाहकार समूह ने बैठक में फैसला किया कि वैक्सीन के वैश्विक उपयोग को देखते हुए अंतिम लाभ-जोखिम मूल्यांकन के लिए निर्माता से अतिरिक्त स्पष्टीकरण मांगा जाना चाहिए।’ यह दूसरी बार था जब डब्ल्यूएचओ ने भारत बायोटेक से स्पष्टीकरण मांगा था। वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि टीका सुरक्षित और प्रभावी है यह सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह से मूल्यांकन करने की आवश्यकता होगी।

भारत बायोटेक की वैक्सीन को कई देशों में मंज़ूरी मिल चुकी है
डब्ल्यूएचओ द्वारा अब तक 6 टीकों को मंजूरी दी जा चुकी है। इनमें फाइजर/बायोएनटेक की कोमिरनेटी, एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड, जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन, मॉडर्न की एमआरएनए-1273, सिनोफार्म की बीबीआईबीपी-कोरवी और सिनोवैक की कोरोनावैक शामिल हैं।

हालांकि, ऐसे कई देश हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय यात्रा को आसान बनाने और यात्रियों को अपने देशों में प्रवेश करने की अनुमति देने के लिए कोवैक्सिन को मंजूरी दी है। इन देशों में गुयाना, ईरान, मॉरीशस, मैक्सिको, नेपाल, पराग्वे, फिलीपींस, जिम्बाब्वे, ऑस्ट्रेलिया, ओमान, श्रीलंका, एस्टोनिया और ग्रीस शामिल हैं। भारत बायोटेक के कोवैक्सीन और एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के कोविशील्ड भारत में व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले दो टीके हैं। ऑस्ट्रेलिया पहले ही कोविशील्ड को मान्यता दे चुका है।

भारत बायोटेक ने अप्रैल में ही प्रेजेंटेशन भेजा था
आपको बता दें कि हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक, जिसने वैक्सीन विकसित की थी, ने 19 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य संगठन को अपने टीके के आपातकालीन उपयोग की सूची के लिए एक ईओआई (रुचि की अभिव्यक्ति) प्रस्तुत की थी।

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत जी-20 नेताओं ने इस बात पर सहमति जताई है कि कोविड-19 टीकों के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को मजबूत किया जाना चाहिए. जाऊँगा। गोयल ने कहा कि नेताओं ने G20 शिखर सम्मेलन में ‘रोम घोषणा’ को अपनाया और स्वास्थ्य खंड के तहत बयान एक बहुत ही मजबूत संदेश देता है, यह मानते हुए कि COVID-19 टीकाकरण दुनिया के लिए फायदेमंद है।

प्रधान मंत्री मोदी ने शनिवार को G20 नेताओं से कहा कि भारत अगले साल के अंत तक दुनिया को महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए कोविड -19 वैक्सीन की पांच बिलियन से अधिक खुराक का उत्पादन करने के लिए तैयार है।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

पहले डेल्टा, अब ओमिक्रॉन… क्या कोरोना के वेरिएंट की उत्पत्ति ग्रेटर नोएडा से हुई है? चर्चा में एनसीआर शहर

Live Bharat Times

भारत जोड़ों यात्रा 10 जनवरी को पंजाब में पहुंचेगी : पूर्व मंत्री गुरकीरत सिंह कोटली

Admin

भारतीय विमानन क्षेत्र को 2020-22 में 24,000 करोड़ से अधिक का नुकसान

Admin

Leave a Comment