Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारतराज्य

विमुद्रीकरण के 5 साल: ‘नोटबंदी साबित हुई कुल आपदा, पीएम मोदी देश से माफी मांगें’, नवाब मलिक और संजय राउत ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना

संजय राउत ने कहा, ‘नोटबंदी के पांच साल बाद आज देश में काला धन बढ़ा है. कश्मीर में आतंकवाद बढ़ा है। यानी नोटबंदी देश के लिए कुल आपदा साबित हुई है.

Advertisement

दिल्ली में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.
केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लिए गए नोटबंदी के फैसले के आज (8 नवंबर, सोमवार) पांच साल पूरे हो गए हैं (नोटबंदी के 5 साल)। इस मौके पर शिवसेना सांसद संजय राउत और एनसीपी नेता व मंत्री नवाब मलिक ने केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला है.

इसे लेकर नवाब मलिक ने एक ट्वीट किया है। उन्होंने ट्वीट करने के साथ ही आज प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की. इस पीसी में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले को पूरी तरह विफल बताया. “आज नोटबंदी के पांच साल पूरे हो गए, न काला धन वापस आया, न भ्रष्टाचार कम हुआ और न ही आतंकवाद रुका। मोदी जी ने तीन महीने मांगे थे, अब हमें बताएं कि हमें किस चौराहे पर जाना है।

‘मोदी जी आप ही बताएं हम किस चौराहे पर जाएं’

संजय राउत ने की मांग, नोटबंदी की नाकामी पर केंद्र सरकार माफी मांगे
आज शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी नोटबंदी को कुल आपदा और अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने वाला बताया। उन्होंने मांग की कि केंद्र सरकार इस फैसले के लिए देश से माफी मांगे। मीडिया से बात करते हुए संजय राउत ने कहा, ‘नोटबंदी के पांच साल बाद आज देश में काला धन बढ़ा है. कश्मीर में आतंकवाद बढ़ा है. यानी नोटबंदी देश के लिए पूरी तरह से आपदा साबित हुई है. विमुद्रीकरण, कई लोगों की जान चली गई, कई लोगों की नौकरी चली गई। विमुद्रीकरण की इस विफलता के लिए केंद्र सरकार को देश से माफी मांगनी चाहिए।

भाजपा की कार्यकारिणी की बैठक पर संजय राउत की टिप्पणी
भाजपा की कार्यकारिणी की बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने महाराष्ट्र से महा विकास अघाड़ी सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया है. नड्डा के इस आह्वान का मजाक उड़ाते हुए संजय राउत ने कहा कि, ‘पहले जिन गांवों को चीन ने अरुणाचल प्रदेश से बसाया था, उन्हें उखाड़ फेंका जाए. जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के हमले बढ़े हैं, इनके ठिकाने बढ़े हैं, इन्हें जड़ से उखाड़ फेंकना चाहिए. फिर देखिए महाराष्ट्र की तरफ। लोकतंत्र को लोकतांत्रिक तरीकों से एक-दूसरे को उखाड़ फेंकने का अधिकार है। लेकिन देश उन गांवों को जानने के लिए बेताब है कि चीन पहले सीमा पर बसा है और जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के हमले को लेकर उनकी क्या तैयारी है.

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

आरआरबी एनटीपीसी छात्र विरोध : पटना में सुबह सड़क पर उतरे छात्र, टायर जलाकर किया सड़क जाम….

Live Bharat Times

यूपी चुनाव: टिकट मिलने के बाद कोंग्रेस प्रत्याशी फराह नईम ने लिया चुनाव नहीं लड़ने का फैसला, जिलाध्यक्ष की टिप्पणी पर भड़के

Live Bharat Times

नोएडा के पबों में चीनी स्लीपर सेल: नेपाल के रास्ते भारत में चीनी नागरिकों की एंट्री, जुटाएं जरूरी आंकड़े

Live Bharat Times

Leave a Comment