Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
हेल्थ / लाइफ स्टाइल

अस्थमा के मरीजों के लिए मुश्किल है सर्दी के दिन, ऐसे करें बचाव

अस्थमा के मरीजों को सर्दियों में बेहद सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि इस दौरान ठंडी हवा सांस लेने की नलियों को संकुचित कर देती है। इससे अस्थमा का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है।

Advertisement


दमा
सर्दी ने दस्तक दे दी है। जल्द ही ठंडी हवाओं का सिलसिला भी तेज होगा। अस्थमा के मरीजों के लिए यह स्थिति चिंताजनक हो सकती है। इस मौसम में जरा सी भी लापरवाही उनके लिए बड़ी परेशानी का कारण बन सकती है क्योंकि सर्दी का मौसम अस्थमा के मरीजों के लिए काफी हानिकारक बताया जाता है.

दरअसल, इस मौसम में ठंड के असर से मरीज की सांस की नलियां सिकुड़ जाती हैं. इससे उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगती है और कफ बनने लगता है। इससे अस्थमा अटैक का खतरा काफी बढ़ जाता है। ऐसे में मरीज को हमेशा अपने साथ दवाएं और इनहेलर रखना चाहिए। यहां जानिए वो बातें जो अस्थमा के मरीजों को सर्दी के असर से बचाने में मददगार साबित हो सकती हैं।

ऐसे आता है अस्थमा अटैक
सर्दी के मौसम में सर्दी के कारण दमा के मरीज की सांस की नली सिकुड़ जाती है। सर्दी-जुकाम के असर से शरीर में सर्दी या कफ जमा हो जाता है। कभी-कभी ट्यूब इतनी पतली हो जाती है या ब्लॉक हो जाती है कि रोगी को छोटी और तेज सांसें लेनी पड़ती हैं। ऐसे में उसकी हांफने लगती है और उसका दम घुटने लगता है। इसे ही अस्थमा अटैक कहते हैं।

इन्हेलर का होना बहुत जरूरी
अस्थमा के मरीजों के लिए इनहेलर है सच्चा दोस्त, इसे कभी भी खुद से अलग नहीं करना चाहिए। खासकर सर्दियों में इस बात का ध्यान रखना चाहिए। जब रोगी इनहेलर के माध्यम से दवा को अंदर लेता है, तो उसकी संकुचित श्वास नलिकाएं अपने मूल रूप में वापस आ जाती हैं और वह काफी आराम महसूस करता है।

ऐसे में इनहेलर लेने से होगा फायदा
इनहेलर का पूरा फायदा उठाने के लिए जरूरी है कि इसका सही तरीके से सेवन किया जाए। इसके लिए सबसे पहले अपने फेफड़ों को खाली करें ताकि दवा पूरी तरह से फेफड़ों तक पहुंच सके। फेफड़ों को खाली करने के लिए पूरी तरह से सांस छोड़ें। इसके बाद इनहेलर को मुंह पर लगाएं और सांस खींचे। दस सेकंड के लिए सांस को रोककर रखें। इसके बाद नाक से सांस छोड़ें। अंत में कुल्ला।

ये सावधानियां हैं बेहद जरूरी
– धुएं, पालतू जानवरों, पक्षियों, धुएं, नमी आदि से खुद को बचाएं।

शरीर को गर्म रखने के लिए गर्म कपड़े ठीक से पहनें।

– ठंडी हवा से बचाएं। सुबह सूरज निकलने के बाद ही घर से बाहर निकलें।

प्राणायाम प्रतिदिन करें, लेकिन बहुत अधिक व्यायाम न करें।

इन्हेलर हमेशा साथ रखें और ठीक से लें।

यदि समस्या बढ़ जाती है, तो तुरंत किसी विशेषज्ञ से सलाह लें।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

त्वचा को खूबसूरत और ग्लोइंग बनाने के लिए ऐसे करें टमाटर का इस्तेमाल

Live Bharat Times

नीम की पत्तियों के इस खास प्रयोग के बारे में जरूर जाने, मिलेंगे अद्भुत लाभ

Live Bharat Times

ब्यूटी टिप्स: अपने चेहरे को ग्लोइंग बनाने के लिए 10 मिनट में पाएं नाक के ब्लैकहेड्स से छुटकारा, जानें एक्सपर्ट से घरेलू नुस्खे

Live Bharat Times

Leave a Comment