Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारत

‘दूसरी लहर के चरम पर भी कारगर साबित हुआ कोवैक्सीन’, भारत बायोटेक ने लैंसेट स्टडी के नतीजों की तारीफ की

लैंसेट अध्ययन भारत में COVID-19 की दूसरी लहर के दौरान स्वास्थ्य कर्मियों पर आयोजित किया गया था, जिन्हें मुख्य रूप से वैक्सीन की पेशकश की गई थी। शोधकर्ताओं ने रोगसूचक संक्रमण के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता का आकलन किया।

Advertisement

भारत बायोटेक 
भारत बायोटेक ने ‘लैंसेट इंफेक्शियस डिजीज’ में प्रकाशित कोवैक्सीन के अध्ययन के लिए एम्स के शोधकर्ताओं की तारीफ की है। कंपनी ने कहा कि ये नतीजे कोरोना वायरस के खिलाफ कोवैक्सीन की वास्तविक प्रभावशीलता का सबूत देते हैं। इस अध्ययन में पाया गया कि रोगसूचक कोविड-19 रोग के खिलाफ कोवैक्सीन की दो खुराक 50 प्रतिशत प्रभावी थी। एम्स में 15 अप्रैल से 15 मई के बीच किए गए अध्ययन में अस्पताल के 2,714 कर्मियों को शामिल किया गया जिनमें कोविड के लक्षण थे।

भारत बायोटेक ने कहा है कि देश में कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट के चरम के दौरान अस्पताल के माहौल में डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा किए गए उच्च जोखिम वाले अध्ययन में वैक्सीन की 50 प्रतिशत प्रभावी प्रभावकारिता वैक्सीन की सुरक्षा को दर्शाती है। कंपनी ने कहा, “ये परिणाम सामान्य आबादी के बीच कोवैक्सीन के चरण -3 नैदानिक ​​​​परीक्षण के दौरान प्राप्त डेल्टा संस्करण के मुकाबले 65.2 प्रतिशत प्रभावी शक्ति के साथ सही तुलना करते हैं। इस अध्ययन से यह भी पता चलता है कि कोवैक्सीन खतरनाक डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ डब्ल्यूएचओ के प्रभावकारिता मानदंडों को भी पूरा करता है।

भारत में COVID-19 की दूसरी लहर के दौरान स्वास्थ्य कर्मियों पर लैंसेट अध्ययन किया गया था, जिन्हें मुख्य रूप से वैक्सीन की पेशकश की गई थी। शोधकर्ताओं ने रोगसूचक संक्रमण के खिलाफ टीके की प्रभावशीलता का आकलन किया। अध्ययन में शामिल 2,714 कर्मचारियों में से 1,617 लोगों में कोविड संक्रमण की पुष्टि हुई और 1,097 लोगों में संक्रमण नहीं पाया गया।

तीसरे चरण के परीक्षण के नतीजों से कम असरदार-शोधकर्ता

अध्ययन से पता चला कि टीके की दो खुराक के बाद रोगसूचक COVID-19 बीमारी से 50 प्रतिशत सुरक्षा थी, जिसमें RT-PCR परीक्षण दूसरी खुराक के 14 या अधिक दिनों के बाद किया गया था। शोधकर्ताओं के अनुसार, दोनों खुराक का प्रभाव सात सप्ताह की अनुवर्ती अवधि में बना रहा।

एम्स में मेडिसिन की सहायक प्रोफेसर पारुल कोडन ने कहा, “अध्ययन के निष्कर्ष पहले के अन्य अध्ययनों की पुष्टि करते हैं जिन्होंने सुझाव दिया था कि अधिकतम सुरक्षा के लिए कोवैक्सीन की दो खुराक आवश्यक हैं।” अध्ययन में पाया गया कोवैक्सीन की प्रभावशीलता तीसरे चरण के परीक्षणों के हाल ही में प्रकाशित अनुमान से कम है।

डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कोवैक्सीन 65.2 प्रतिशत प्रभावी

हाल ही में द लैंसेट में प्रकाशित एक अंतरिम अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि कोवैसीन या BBV152 वैक्सीन की दो खुराक रोगसूचक बीमारी के खिलाफ 77.8 प्रतिशत प्रभावी थीं और इसकी सुरक्षा को लेकर कोई गंभीर चिंता नहीं थी। Covaccine को BBV152 के नाम से भी जाना जाता है। हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के सहयोग से Covaccine विकसित किया है।

आंकड़ों के मुताबिक Covaccine वैक्सीन बिना किसी लक्षण के मरीजों को 63.6 फीसदी सुरक्षा मुहैया कराती है. यह वैक्सीन डेल्टा वेरिएंट्स के खिलाफ 65.2 फीसदी और सभी तरह के कोरोना वायरस के खिलाफ 70.8 फीसदी प्रभावी है, जो देश में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान सबसे ज्यादा प्रभावी थे।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज से पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर हैं

पंजाबी संस्कृति, साहित्य, वाणी और पंजाबी चरित्र का प्रसार सबकी साझी जिम्मेदारी :- विधायक अमृतपाल सिंह

Live Bharat Times

यूपी विधानसभा चुनाव 2022: सातवें चरण के लिए बीजेपी पीएम मोदी, अमित शाह और सीएम योगी के साथ जमकर प्रचार करेंगे

Live Bharat Times

Leave a Comment