Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारतराज्य

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर: काशी में बोले पीएम मोदी- इस देश की मिट्टी अलग है, यहां हर औरंगज़ेब के खिलाफ खड़े हैं शिवाजी

पीएम मोदी ने कहा- काशी काशी है! काशी अविनाशी है। काशी में एक ही सरकार है, जिसके हाथ में डमरू है, उसकी सरकार है। जहां गंगा बहती है वहां काशी को अपनी धारा बदलकर कौन रोक सकता है?

Advertisement

पीएम मोदी ने काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन) ने सोमवार दोपहर बाबा विश्वनाथ के मंदिर में पूजा-अर्चना कर ‘काशी विश्वनाथ कॉरिडोर’ का उद्घाटन कर देश को समर्पित किया. इस लॉन्च के बाद पीएम मोदी ने कहा कि इस शहर पर आतंकियों ने हमला किया है, इसे तबाह करने की कोशिश की गई है.औरंगज़ेब के अत्याचारों का इतिहास, उसका आतंक गवाह है, जिसने तलवार के बल पर सभ्यता को बदलने की कोशिश की। जिन्होंने कट्टरता से संस्कृति को कुचलने की कोशिश की। लेकिन इस देश की मिट्टी बाकी दुनिया से अलग है, अगर औरंगज़ेब यहां आ जाए तो शिवाजी भी उठ खड़े होते हैं. अगर कोई सालार मसूद यहां घूमता है तो राजा सुहेलदेव जैसे वीर योद्धा उसे हमारी एकता की शक्ति का अहसास कराते हैं।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि अंग्रेजों के जमाने में भी काशी की जनता जानती थी कि हेस्टिंग्स को क्या हुआ है. उन्होंने कहा कि काशी शब्दों की नहीं, भावनाओं की रचना है। काशी वह है – जहाँ जाग्रत जीवन है ! काशी वह है – जहाँ मृत्यु भी मंगल है ! काशी वह है – जहां सत्य ही संस्कार है ! काशी वह है जहां प्रेम परंपरा है।

“काशी काशी है! काशी अविनाशी है।
पीएम मोदी ने कहा- काशी काशी है! काशी अविनाशी है। काशी में एक ही सरकार है, जिसके हाथ में डमरू है, उसकी सरकार है। जहां गंगा बहती है वहां काशी को अपनी धारा बदलकर कौन रोक सकता है? पीएम मोदी ने कहा- यहां जो मंदिर क्षेत्र पहले सिर्फ तीन हजार वर्ग फुट में था, वह अब करीब 5 लाख वर्ग फुट हो गया है. अब मंदिर और मंदिर परिसर में 50 से 75 हजार श्रद्धालु आ सकते हैं। यानी पहले माँ गंगा के दर्शन-स्नान और वहां से सीधे विश्वनाथ धाम।

पीएम मोदी ने आगे कहा- विश्वनाथ धाम का यह पूरा नया परिसर सिर्फ एक भव्य इमारत नहीं है, यह एक प्रतीक है, यह हमारे भारत की शाश्वत संस्कृति का प्रतीक है, यह हमारी आध्यात्मिक आत्मा का प्रतीक है, यह एक प्रतीक है भारत की पुरातनता, परंपराओं की, भारत की ऊर्जा, गतिशीलता। हमारे पुराणों में कहा गया है कि जैसे ही कोई काशी में प्रवेश करता है, वह सभी बंधनों से मुक्त हो जाता है। भगवान विश्वेश्वर का आशीर्वाद, एक अलौकिक ऊर्जा यहां आते ही हमारी अंतरात्मा को जगा देती है।

काशी में कुछ भी नया करने के लिए कोतवाल भैरव का आदेश जरूरी है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी के भव्य स्वरूप ‘काशी विश्वनाथ धाम’ को समर्पित किया है। इसके बाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘फिलहाल मैं बाबा के साथ शहर कोतवाल कालभैरव जी के दर्शन भी कर रहा हूं. देशवासियों के लिए उनका आशीर्वाद लेकर आ रहा हूं. काशी में जो कुछ नया है, वह जरूरी है. उनसे पूछने के लिए। मैं भी काशी के कोतवाल के चरणों में नमन करता हूं। काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में आज पीएम मोदी ने कॉरिडोर बनाने वाले कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। इस दौरान पीएम मोदी ने उन पर फूल बरसाए और उनके साथ बैठे फोटो खिंचवाए .

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

3 सेकेंड की दूरी पर थी मौत: ठाणे में जान देने के लिए ट्रेन की पटरी पर कूदा युवक, फरिश्ता बना, जीआरपी कर्मियों ने बचाई जान

Live Bharat Times

प्रदेश में 4 जी एवं 5 जी के 1200 से अधिक टावर स्थापित किये जाएंगे • सीएम पुष्कर सिंह धामी।

Live Bharat Times

भोपाल में कुछ लोगों ने स्ट्रीट डॉग को बेहरमी से पिटा, पशु प्रेमी ने बचाया पुलिस में की शिकायत।

Live Bharat Times

Leave a Comment