Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारत राज्य

यूपी चुनाव 2022: आज सीएम योगी कर सकते हैं ग्राम प्रधानों का वेतन बढ़ाने का ऐलान, कई बड़े ऐलान की तैयारी

प्रधानों का मानदेय रुपये से बढ़ाया जाएगा। 3,500 से रु. 5,000, जो कि क्षेत्र पंचायत प्रमुखों से रु  9,800 से रु. 11,300 रुपये और जिला पंचायत अध्यक्षों से रु 14,000 से रु. 15,500.

सीएम योगी आदित्यनाथ 

Advertisement

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ लगातार कई बड़े ऐलान कर रहे हैं. आज आयोजित यूपी ग्राम उत्कर्ष समारोह में सीएम योगी पंचायत प्रतिनिधियों के लिए कई बड़े ऐलान कर सकते हैं. इसके तहत मुखिया के मानदेय की राशि को 3500 से बढ़ाकर 5000 रुपये किया जा सकता है. लखनऊ स्थित वृंदावन योजना स्थित डिफेंस एक्सपो ग्राउंड में आयोजित होने वाले इस समारोह में करीब सवा लाख पंचायत प्रतिनिधि व नवनियुक्त पंचायत सहायक जुटेंगे. इस समारोह में पंचायती राज मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह, पंचायती राज राज्य मंत्री उपेंद्र तिवारी भी मौजूद रहेंगे.

राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन, ललित शर्मा, डॉ. अखिलेश सिंह आदि के प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर अपनी मांगों को रखा. मुख्यमंत्री ने इन मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया था. इसके बाद संगठन के प्रतिनिधियों ने अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज मनोज कुमार सिंह से तीन दौर में बातचीत की. इसी क्रम में राज्य सरकार ने ग्रामीण विकास मंत्री मोती सिंह और पंचायती राज मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह की समिती गठित की थी, जिसने प्रखंड प्रमुखों की शक्तियों में वृद्धि के संबंध में सरकार को अपनी रिपोर्ट दी.

कई बड़ी योजनाओं की घोषणा संभव
मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को विधानसभा चुनाव से पहले ‘यूपी ग्राम उत्कर्ष समारोह’ में 8,84,225 त्रिस्तरीय ग्राम पंचायत प्रतिनिधियों पर उपहारों की बौछार करेंगे. वह ग्राम प्रधानों, प्रखंड प्रमुखों, जिला पंचायत अध्यक्षों का मासिक मानदेय बढ़ाने और जिला पंचायत सदस्यों, क्षेत्र पंचायत सदस्यों और ग्राम पंचायत सदस्यों की बैठकों में भाग लेने के लिए भत्तों में वृद्धि की भी घोषणा करेंगे. पंचायतों की प्रशासनिक और वित्तीय शक्तियों में वृद्धि की घोषणा की भी तैयारी है। सरकार निर्वाचित प्रतिनिधियों की मृत्यु पर आश्रितों को 2 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता भी देगी।

ग्राम प्रधानों के वित्तीय अधिकारों को दो के स्थान पर पांच लाख रुपये तक बढ़ाने, जिला योजना में दो ग्राम प्रधानों को सदस्य बनाने, ग्राम प्रधानों को मनरेगा के तहत भुगतान का अधिकार देने, पंचायत प्रतिनिधि गठित करने की घोषणा की जा सकती है। इसके अलावा ब्लॉक प्रमुखों को कुछ उपहार भी मिल सकते हैं। इनमें मुख्यमंत्री इस योजना में भुगतान की प्रक्रिया में बीडीओ सहित मनरेगा के प्रखंड प्रमुखों को वित्तीय एवं प्रशासनिक अधिकार देने की घोषणा भी कर सकते हैं. मुख्यमंत्री इन तोहफों की घोषणा डिफेंस एक्सपो ग्राउंड में राज्य के सवा लाख पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मेलन में करेंगे.

क्या बढ़ाया जा रहा है?
प्रधानों का मानदेय रुपये से बढ़ाया जाएगा। 3,500 से रु. 5,000, जो कि क्षेत्र पंचायत प्रमुखों से रु. 9,800 से रु. 11,300 रुपये और जिला पंचायत अध्यक्षों से रु. 14,000 से रु. 15,500. इसी प्रकार जिला पंचायत सदस्यों एवं क्षेत्र पंचायत सदस्यों को मिलने वाले भत्तों में 500 रुपये प्रति बैठक की वृद्धि करने पर सहमति बनी है। जिला पंचायत सदस्यों का प्रति बैठक भत्ता 1000 रुपये से बढ़ाकर 1500 रुपये और क्षेत्र पंचायत सदस्यों का 500 रुपये से बढ़ाकर 1000 रुपये प्रति बैठक भत्ता किया जा रहा है।

पहली बार ग्राम पंचायत सदस्यों को प्रति बैठक भत्ता देने की घोषणा की जा रही है। उन्हें प्रति बैठक 100 रुपये भत्ता दिया जाएगा। सदस्य जिला पंचायत एवं क्षेत्र पंचायत की प्रति बैठक भत्तों की गणना वर्ष में छह बैठकों तथा सदस्य ग्राम पंचायत की एक वर्ष में 12 बैठकों के आधार पर की जायेगी। राज्य वित्त आयोग के तहत वित्तीय वर्ष 2021-22 में राज्य की पंचायतों को 6600 करोड़ रुपये का प्रावधान है. इसमें से 10 फीसदी 660 करोड़ रुपये है। प्रस्तावित वृद्धि पर कुछ खर्च इसके दायरे में रखा जाएगा।

पंचायत कल्याण कोष की स्थापना
राज्य सरकार तीन स्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के आश्रितों को पद पर रहते हुए उनकी मृत्यु पर वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। इसके लिए 50 करोड़ रुपये का पंचायत कल्याण कोष बनाया जाएगा। ग्राम प्रधान, प्रखंड प्रमुख एवं जिला पंचायत अध्यक्ष की पद पर रहते हुए मृत्यु होने पर आश्रितों को 10 लाख रुपये की सहायता प्रदान करने की योजना है। सदस्य जिला पंचायत की मृत्यु पर पांच लाख रुपये, सदस्य क्षेत्र पंचायत की मृत्यु पर तीन लाख रुपये और सदस्य ग्राम पंचायत की मृत्यु पर दो लाख रुपये।

राज्य की ग्राम पंचायतों द्वारा प्रत्येक वर्ष ग्राम सभा की बैठक में स्वीकृति के बाद लगभग 37 से 38 लाख कार्यों को उनकी कार्य योजना में शामिल किया जाता है। विभिन्न स्तरों पर पंचायतों के कार्यों की प्रशासनिक, वित्तीय एवं तकनीकी सीमा को 2 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करने का प्रस्ताव है। जिला पंचायतों के 10 लाख से ऊपर के अनुमानों को शासन स्तर से स्वीकृत करने का प्रावधान है। जुलाई 2015 में 10 लाख की सीमा तय की गई थी। इस सीमा को बढ़ाकर 25 लाख करने की घोषणा की जाएगी।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

100 साल पुराने जयपुर के अल्बर्ट हॉल का नाम बदल सकती है गहलोत सरकार !

Admin

यूपी विधानसभा चुनाव: सीएम योगी आदित्यनाथ ने की जनता से वोट की अपील, कहा- ध्यान रहे, पहले वोट करें फिर जलपान

Live Bharat Times

बीवीआर सुब्रमण्यम बने नीति आयोग के नए सीईओ, लेंगे परमेश्वरन अय्यर की जगह

Live Bharat Times

Leave a Comment