Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारत

नगालैंड में छह महीने के लिए बढ़ा AFSPA, गृह मंत्रालय ने जारी किया आदेश- 45 दिन में देनी होगी रिपोर्ट

आम लोगों की मौत के बाद बढ़ते तनाव को कम करने के लिए केंद्र ने AFSPA हटाने की संभावना पर विचार करने के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया है। कमिटी 45 ​​दिनों में अपनी रिपोर्ट देगी।

Advertisement

नागालैंड में बढ़ा AFSPA
नागालैंड में विवादास्पद कानून, सशस्त्र बल (विशेष) शक्ति अधिनियम (AFSPA), को छह महीने (30 जून, 2022) के लिए बढ़ा दिया गया है। गृह मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। यह कानून सैन्य व्यापक शक्तियों को राज्य के अशांत क्षेत्र में कहीं भी स्वतंत्र रूप से संचालित करने की शक्ति देता है। जिन क्षेत्रों में AFSPA लागू है, वहां केंद्र की मंजूरी के बिना किसी भी सैन्यकर्मी को हटाया या परेशान नहीं किया जा सकता है।

इसके अलावा, कानून उन क्षेत्रों में लागू किया जाता है जहां पुलिस और अर्धसैनिक बल आतंकवाद, विद्रोह या बाहरी ताकतों से लड़ने में विफल होते हैं। सात सदस्यीय समिति के गठन के चंद दिनों बाद ही सुझाव लेने आए हैं और तीन महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट देने को कहा है।

बैठक 23 दिसंबर को हुई थी
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 23 दिसंबर को नागालैंड के मौजूदा हालात पर चर्चा करने के लिए अपने आवास पर एक बैठक की अध्यक्षता करने के बाद यह निर्णय लिया। बैठक में नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफिउ रियो और उनके आसाम के समकक्ष हिमंत बिस्वा सरमा ने भाग लिया। की मौत के बाद से AFSPA कानून को वापस लेने की मांग जोर पकड़ रही है।

इस कानून के तहत सैनिकों को कई विशेषाधिकार प्राप्त हैं
इस कानून के तहत, सैनिकों के पास कई विशेषाधिकार हैं, जैसे बिना वॉरंट के किसी को गिरफ्तार करने और किसी संदिग्ध के घर में घुसने का अधिकार और यह जांच करने का कि क्या संदिग्ध व्यक्ति पहली चेतावनी के बाद भी अनुपालन नहीं करता है। गोली मारने के लिए किसी के आदेश का इंतजार नहीं, अगर गोली किसी की जान ले लेती है तो सिपाही पर हत्या का मुकदमा नहीं चलाया जा सकता। यदि राज्य सरकार या पुलिस प्रशासन ध्वनि या सेना की टुकड़ी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करता है, तो अदालत में उसके खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए केंद्र सरकार की अनुमति की आवश्यकता होती है।

भारत के रजिस्ट्रार और जनरल पीयूष गोयल होंगे समिति के सचिव
AFSPA को वापस लेने के लिए नागालैंड की राजधानी कोहिमा सहित कई जिलों में भी विरोध प्रदर्शन हुए। इसने AFSPA पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। 5 सदस्यीय समिति की अध्यक्षता भारत के रजिस्ट्रार जनरल और जनगणना आयुक्त विवेक जोशी करेंगे, जबकि केंद्रीय गृह मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव पीयूष गोयल समिति के सदस्य सचिव होंगे।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

भारत “दुनिया को खिलाने” के पीएम के वादे के महीनों बाद गेहूं आयात कर सकता है: रिपोर्ट

Live Bharat Times

434 करोड़ की हेरोइन जब्त: दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ी गई 62 किलो हेरोइन, ट्रॉली बैग में छिपाकर 126 युगांडा से दिल्ली लाई थी

Live Bharat Times

रूस के विदेश मंत्री से मिले पीएम मोदी: पीएम ने की हिंसा खत्म करने की अपील; पश्चिमी देशों के दबाव के बावजूद 40 मिनट तक चली बातचीत

Live Bharat Times

Leave a Comment