Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
धर्मं / ज्योतिष

इस माला का जाप करने से प्रसन्न होती हैं मां लक्ष्मी, जानिए इसके बारे मे

किसी भी देवी या देवता को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रों का जाप सही माला से करना चाहिए। यहां जानिए मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए किस माला का प्रयोग करना चाहिए और किन मंत्रों का जाप करना चाहिए।

Advertisement

माँ लक्ष्मी
मां लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है। आज के समय में हर कोई अमीर बनना चाहता है इसलिए माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने का उपाय ढूंढते रहें। हिंदू धर्म में प्रत्येक देवता की पूजा करने के अलग-अलग तरीके, उनके विशेष मंत्र आदि बताए गए हैं। समझाया जाता है। मंत्रों के जाप से मन एकाग्र और स्थिर होता है और एकाग्र मन से ही साधना संभव हो पाती है।

किसी भी देवी या देवता को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्रों का जाप सही माला से करना चाहिए। यदि आपकी कुंडली में शुक्र कमज़ोर है और आप जीवन में आर्थिक तंगी का सामना कर रहे हैं तो आपको माता लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए और उनके मंत्रों का जाप करना चाहिए। यदि माता लक्ष्मी प्रसन्न हों तो धन, अन्न, सुख, समृद्धि, पदोन्नति, प्रेम आदि की कमी नहीं होती है।

स्फटिक की माला से करें मां लक्ष्मी का जप
आर्थिक स्थिति को मजबूत करने, शुक्र को मजबूत करने और मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए क्रिस्टल माला से मां लक्ष्मी के मंत्रों का जाप करना चाहिए। स्फटिक एक रंगहीन, पारदर्शी पत्थर है। इसे शुद्ध क्रिस्टल या सफेद क्रिस्टल कहा जाता है। यह कांच जैसा दिखता है। बर्फीले पहाड़ों पर बर्फ के नीचे टुकड़ों के रूप में क्रिस्टल पाए जाते हैं। क्रिस्टल की माला से मां दुर्गा और मां सरस्वती के मंत्रों का भी जाप किया जा सकता है।

जाप करने का सही तरीका जानें
जप का पूरा लाभ उठाने का सही तरीका जानना जरूरी है। किसी भी मंत्र का जाप करते समय शुद्ध ऊनी आसनों को जमीन पर रखें और पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं। माला का प्रयोग करने से पहले उसे शुद्ध पानी से धोकर तिलक लगाएं। दाहिने हाथ में माला लेकर पूर्व की ओर मुख करें। फिर माला को मध्यमा अंगुली पर रखें और अंगूठे से एक मनका आगे की ओर जपें। इस दौरान कीलों को मोतियों को नहीं छूना चाहिए। साथ ही माला धारण करते समय इसे नाभि के नीचे या नाक के ऊपर न रखें। माला छाती से लगभग 4 इंच की दूरी पर होनी चाहिए। एक माला पूरी करने के बाद वहां से लौटकर दूसरी माला का जाप करना शुरू कर दें। माला के शीर्ष पर स्थित मोती जिसे सुमेरु कहते हैं, उसे पार नहीं करना चाहिए। साथ ही माला की संख्या भी निश्चित कर संकल्पपूर्वक नामजप करना चाहिए। तभी आपको उसका फल मिल सकता है।

इन मंत्रों का जाप करें
– Om श्री ह्रीं क्लीन श्री सिद्ध लक्ष्मयै नम:

– Om श्री महालक्ष्मीई चा विद्माहे विष्णु पटन्याई चा धीमाही तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयत

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

उत्तर प्रदेश: योगी सरकार ने छठ पर कई जिलों में सार्वजनिक अवकाश घोषित, डीएम को होगा अधिकार

Live Bharat Times

जानिए भोलेनाथ की तीसरी आंख का क्या है रहस्य और खुलने पर क्यों आयीं तबाही

Live Bharat Times

24 अक्टूबर को दिवाली और और 25 को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण होगा।

Live Bharat Times

Leave a Comment