Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
Other

स्पंज सिटी क्या है? अब ये शहर भारत में करेगा ये खास शुरुआत और होंगे कई फायदे!

चेन्नई ने शहर में पानी के लिए स्पंज पार्क बनाकर शहर को स्पंज सिटी बनाने का फैसला किया है। ऐसे में जानिए आखिर क्या होता है और शहर को क्या फायदा।

Advertisement

स्पंज यानि फोम जिस तरह से काम करता है, वह शहर में भी काम करेगा।
हाल ही में खबरें आई थीं कि चेन्नई ने स्पंज सिटी विकसित करने का फैसला किया है, ताकि भूजल स्तर और बाढ़ के पानी का सही इस्तेमाल हो सके। चेन्नई को स्पंज सिटी बनाने के फैसले के बाद कई लोगों के मन में यह सवाल है कि आखिर यह स्पंज सिटी है क्या। इसके अलावा सवाल यह भी है कि स्पंज सिटी बनाने के लिए शहर में क्या बदलाव किए जाते हैं, जिसके बाद किसी शहर को स्पंज सिटी बनाया जाता है।

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि यह स्पंज सिटी क्या है और किसी शहर को स्पंज सिटी में कैसे बदला जा सकता है तो आज आपको सभी सवालों के जवाब मिलने वाले हैं। ऐसे में जानिए स्पंज सिटी से जुड़े हर सवाल का जवाब और इस शहर को बनाने के लिए चेन्नई में क्या बदलाव किए जाएंगे…

स्पंज सिटी क्या है?
स्पंज सिटी का सार इसके नाम में है। यानी जिस तरह से स्पंज काम करता है, उसी तरह एक शहर भी काम करेगा। आपने देखा होगा कि स्पंज अपने आसपास के पानी को सोख लेता है और कुछ चीजों को साफ करने में भी इसका इस्तेमाल होता है। इससे झाग आसपास के पानी को सोख लेता है, जिससे कपड़े में काफी दिक्कत होती है। इसी तरह शहर में भी पानी सोखने के लिए कुछ किया जाए।

इसका मतलब है कि भारी बारिश के बाद एकत्र किया गया पानी, बाढ़ का पानी एक जगह जमा हो जाता है। जैसे स्पंज करता है। स्पंज की तरह शहर में पानी का अवलोकन किया जाएगा और या तो भूजल स्तर को ऊपर उठाने का प्रयास किया जाएगा या पानी का किसी अन्य तरीके से उपयोग किया जाएगा। अब चेन्नई मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी भी यही काम करने जा रही है और बारिश के पानी का सदुपयोग करने जा रही है. इसका मुख्य लक्ष्य शहरी बाढ़ को रोकना है।

यह एक तरह का बाढ़ प्रबंधन है। इससे बाढ़ और बारिश का पानी ठीक से निकल जाता है। इसका लक्ष्य भूजल स्तर को ऊपर उठाना या फिर उस पानी का पुन: उपयोग करना है।

कैसे बनेगी स्पंज सिटी?
स्पंज सिटी बनाने के लिए सरकार द्वारा कई कदम उठाए जा रहे हैं। जल संसाधन विभाग योजना बना रहा है कि इसके लिए शहर में रिचार्ज शाफ्ट बनाए जाएंगे। रिचार्ज शाफ्ट को एक प्रकार का तालाब या गड्ढा बनाया जाएगा, जिसमें बारिश का पानी इकट्ठा होगा और इसके जरिए पानी जमीन में जाएगा, जिससे जमीन का जल स्तर काफी बढ़ जाएगा। इन्हें 80-90 फीट नीचे तक बनाया जाएगा और नीचे तक पानी छोड़ा जाएगा, ताकि पानी आसानी से जमीन में जा सके। ऐसे में पानी का इस्तेमाल दूसरे तरीकों से भी किया जा सकता है।

योजना के तहत कई छोटे जलाशयों का उपयोग किया जाएगा, जिससे इन इलाकों में शहर का पानी पहुंचेगा। इससे न सिर्फ जलस्तर बढ़ेगा, बल्कि बाद में भी इस पानी का इस्तेमाल किया जा सकेगा।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

अंकिता भंडारी हत्याकांड – आरोपी का रिसोर्ट बुलडोजर से तोडा गया

Live Bharat Times

लर्निंग एवं स्‍थाई लाइसेंस प्राप्त करने हेतु ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत करने की प्रक्रिया

Live Bharat Times

अमेरिकी राष्ट्रपति का इस्लाम से प्यार: ईद पर बिडेन बोले तो दुनिया भर के मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा है, बदलाव की जरूरत है

Leave a Comment