Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
Breaking News
Other

आपको हैरान कर देंगे अश्वगंधा चूर्ण से होने वाले ये बड़े फायदे

 

अश्वगंधा की बात करें तो ये एक नहीं बल्कि कई सारे औषिधीय गुणों से भरपूर होती है,इसका यदि आप रोजाना सेवन करते हैं तो कई बीमारियां दूर होती चली जाती हैं। अश्वगंधा पेट की सेहत को स्वस्थ रखने से लेकर पूरे शरीर को फायदा पहुंचाने का काम करती है।

Advertisement

इसके रोजाना सेवन से पेट में दर्द होने से लेकर इम्युनिटी को बूस्ट करने तक फायदा पहुंचाने में बहुत ही ज्यादा कारगर साबित होता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स,एंटी इन्फ्लामेट्री, एंटी बैक्टीरियल के जैसे कई तत्व प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। वहीं इसका यदि दूध के साथ सेवन करते हैं तो ये और भी ज्यादा बेहतरीन होता है।

कोलेस्ट्रॉल को करता है कम
अश्वगंधा का यदि आप रोजाना सेवन करते हैं इससे कोलेस्ट्रॉल का लेवल काफी हद तक कम होने में मदद मिलती है,वहीं ये गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को भी बढ़ाता है, ज्यादा फायदा पाना चाहते हैं तो इसका सेवन रोजाना रात को गर्म दूध के साथ कर सकते हैं,गर्म दूध के साथ इसका सेवन करने से आपको बहुत ही ज्यादा लाभ मिलता है।

खांसी-जुकाम की समस्या को करता है कम
यदि आप लंबे समय से खांसी-जुकाम के जैसी समस्याओं से ग्रसित रहते हैं तो ऐसे में अश्वगंधा का सेवन बहुत ही ज्यादा लाभदायक साबित होता है, वहीं पुरानी खांसी की समस्या को ठीक करने में भी आपकी मदद कर सकता है। खांसी-जुकाम से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने के लिए आप रोजाना गुनगुने पानी के साथ एक चम्मच इसका सेवन कर सकते हैं।

अनिद्रा की समस्या
यदि आप अनिद्रा की समस्या से परेशान रहते हैं तो ऐसे में आप अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं, अश्वगंधा के पत्तों में ट्राएथिलीन ग्लाइकोल नामक एक तत्व पाया जाता है, ये अनिद्रा की समस्या दूर होने में बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है। इस रिसर्च के अनुसार इस बात को कहा गया है जो व्यक्ति अनिद्रा की समस्या से परेशान रहते हैं वे अश्वगंधा को डाइट में शामिल कर सकते हैं। ये अनिद्रा की समस्या को दूर करने में असरदार साबित होता है।

इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए अश्वगंधा का सेवन
यदि आप इम्युनिटी को बढ़ाना चाहते हैं तो अश्वगंधा को डाइट में शामिल कर सकते हैं, अश्वगंधा चूर्ण का रोजाना उपयोग करने से आप प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं, इसमें मौजूद इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव बॉडी की जरूरत के हिसाब से प्रतिरोधक क्षमता में बदलाव कर सकता है, जिससे रोगों से लड़ने में भी बहुत ही ज्यादा मदद मिलती है।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

‘जानिए उस तीखी मिर्च के बारे में, जिसके 3 टुकड़े एक शख्स ने खा लिया, बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड

Live Bharat Times

उत्तर प्रदेश: प्रयागराज आ सकते हैं पीएम मोदी! 21 दिसंबर को 75 जिलों के स्वयं सहायता समूहों के 2.5 लाख लाभार्थियों को संबोधित किया जाएगा

Live Bharat Times

पुलिस को पीटने और कपडे फाड़ने का जुर्म करने वाला आरोपी गिरफ्तार।

Live Bharat Times

Leave a Comment