Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारतराज्य

यूपी चुनाव 2022: यूपी में अखिलेश को राजद के बिना शर्त समर्थन का असर, लालू यादव के दामाद बने सपा प्रत्याशी, सिकंदराबाद सीट से लड़ेंगे चुनाव

समाजवादी पार्टी के टिकट पर लालू प्रसाद यादव के दामाद चुनाव लड़ेंगे. उन्हें बुलंदशहर की सिकंदराबाद सीट से सपा का उम्मीदवार बनाया गया है. राहुल कोंग्रेस के पूर्व विधायक जितेंद्र यादव के बेटे हैं. सिकंदराबाद की इस सीट पर जितेंद्र यादव को करारी हार का सामना करना पड़ा था, जिसके बाद वह कोंग्रेस छोड़कर सपा में गए थे।

लालू-राबड़ी के दामाद को मिला सपा का टिकट 

Advertisement

यूपी चुनाव 2022 में लालू यादव की पार्टी राजद के सपा को बिना शर्त समर्थन का असर दिखना शुरू हो गया है. अखिलेश यादव ने लालू यादव के दामाद  को सपा का टिकट दिया है. समाजवादी पार्टी ने यहां बुलंदशहर की सिकंदराबाद सीट से राहुल यादव को मैदान में उतारा है. राहुल यादव के पिता जितेंद्र सिंह कोंग्रेस विधायक रह चुके हैं. लेकिन 2012 के विधानसभा चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इस चुनाव में वह कोंग्रेस प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतरे थे और उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा था। इस सीट पर जितेंद्र यादव चौथे स्थान पर रहे थे। कोंग्रेस उम्मीदवार के रूप में बुरी तरह हारने के बाद ही वह समाजवादी पार्टी में शामिल हुए। अब उनके बेटे राहुल को यहां पार्टी ने मैदान में उतारा है.

वहीं बीजेपी ने यहां अपनी विधायक विमला सोलंकी को टिकट दिया है. पार्टी ने उन पर भरोसा जताया है. राहुल यादव अब इस चुनाव में भाजपा विधायक विमला सोलंकी से चुनाव लड़ रहे हैं। ये वही विमला सोलंकी हैं जिन्होंने राहुल के पिता जितेंद्र यादव को बुरी तरह हराया था. बताया जा रहा है कि समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद से ही जितेंद्र यादव अपने बेटे राहुल यादव को इस सीट से सपा का टिकट दिलाने की प्रक्रिया में थे. इसमें उन्हें लालू यादव का भी समर्थन मिला और अब अखिलेश यादव ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया है.

लालू की चौथी बेटी के पति हैं राहुल
लालू-राबड़ी की चौथी बेटी रागिनी यादव के पति राहुल यादव तब चर्चा में आए थे, जब ईडी ने राहुल से लालू-राबड़ी परिवार पर दर्ज आय से अधिक संपत्ति के मामले में भी पूछताछ की थी. दरअसल, राहुल की सास राबड़ी देवी ने कहा था कि उन्होंने पटना में अपने दामाद राहुल यादव से एक करोड़ रुपये का कर्ज लेकर प्रॉपर्टी खरीदी है. जिसके बाद ईडी ने राहुल से इस 1 करोड़ को लेकर पूछताछ की।

2017 में भी राहुल ने चुनाव लड़ा था.
राहुल यादव को 2017 में समाजवादी पार्टी का टिकट भी मिला था लेकिन वह चुनाव हार गए थे। लालू परिवार 2019 के लोकसभा चुनाव में भी उन्हें समाजवादी पार्टी का टिकट दिलाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन कामयाब नहीं हुआ. मुलायम परिवार से भी हैं राहुल यादव के संबंध

पिता हुआ करते थे कोंग्रेसी
नोएडा के सरफाबाद गांव के रहने वाले राहुल यादव ने स्विट्जरलैंड में होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई की है. वह पेशे से बिजनेसमैन हैं। उनके पिता कभी कोंग्रेस के प्रमुख नेताओं में गिने जाते थे। लेकिन अब समाजवादी राजनीति कर रहे हैं। हालांकि 2017 के चुनाव में राहुल यादव उतरे थे. समाजवादी पार्टी ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया लेकिन वह चुनाव हार गए। इसके बाद लालू प्रसाद ने उन्हें लोकसभा का टिकट दिलाने की कोशिश की लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला और अब सपा ने राहुल यादव को विधानसभा में टिकट दिया है.

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

भारत “दुनिया को खिलाने” के पीएम के वादे के महीनों बाद गेहूं आयात कर सकता है: रिपोर्ट

Live Bharat Times

लद्दाख पंक्ति: भारत, चीन परस्पर स्वीकार्य संकल्प पर काम करने के लिए सहमत

Live Bharat Times

श्यामलाल महाविद्यालय (सांध्य) में गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर कविता-पाठ का आयोजन

Live Bharat Times

Leave a Comment