Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़हेल्थ / लाइफ स्टाइल

बच्चे की बीमारी के लिए जिम्मेदार है मां-बाप का गुस्सा

हमारे आस-पास कई बच्चे ऐसे होते हैं जो जिद्दी होते हैं। ये कुछ भी पाने की जिद करते हैं, लेकिन कुछ बच्चे ऐसे भी होते हैं जो अपने माता-पिता से हमेशा डरते हैं। अगर किसी बच्चे को बचपन से ही तनाव में रखा जाए तो वह डिप्रेशन का शिकार हो जाता है। यदि माता-पिता किसी बच्चे के साथ अशिष्ट व्यवहार करते हैं, तो इसका सीधा प्रभाव बच्चे के मस्तिष्क पर पड़ता है और वह हमेशा बीमार रहता है।

Advertisement
बच्चों के तड़पने से मानसिक प्रभाव पड़ता है हम अक्सर बच्चों के गलत व्यवहार करने पर उन्हें फटकार लगाते हैं, लेकिन हमेशा उनके प्रति सख्त रवैया अपनाने से उनका मानसिक स्वास्थ्य लंबे समय में प्रभावित हो सकता है। अगर माता-पिता हमेशा बच्चों के साथ सख्त होते हैं, तो यह उनके डीएनए को भी प्रभावित कर सकता है। एक बच्चे के डीएनए को लगातार सख्त पालन-पोषण से बदला जा सकता है।
 सभी बच्चों के डीएनए में 45 लाख दोष पाए, जो माता-पिता की फटकार के कारण हुए। तनाव डीएनए मिथाइलेशन नियामक तंत्र को प्रभावित करता है। यह पुराने और भूले हुए तनावों को भी उजागर करता है।
किया कि जो बच्चे सख्त पालन-पोषण से गुजरे हैं, वे बड़े होने के बाद भी दोस्त नहीं बना पाते हैं। इन बच्चों के लिए लोगों से भावनात्मक रूप से जुड़ना मुश्किल हो जाता है। वे समाज से अलग हो जाते हैं। पढ़ाई में भी बेहतर नहीं कर पाते हैं। शोध के निष्कर्षों के बाद, यह समझाने की कोशिश की कि बचपन से सख्त पालन-पोषण भी बच्चों के शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। वे बीमार होने लगते हैं। वे जीवन भर इस बीमारी से पीड़ित रहते हैं।
सख्त पालन-पोषण से ऊब जाते हैं बच्चे इस अध्ययन में शामिल वैज्ञानिकों ने दावा किया कि जो बच्चे सख्त पालन-पोषण से गुजरे हैं वे बड़े होने के बाद भी दोस्त नहीं बना पाते हैं। ऐसे बच्चों के लिए लोगों से भावनात्मक रूप से जुड़ना मुश्किल होता है। वे समाज से अलग होते जा रहे हैं। पढ़ाई में भी बेहतर नहीं कर पाते हैं। शोध के निष्कर्षों के बाद, यह समझाने की कोशिश की कि बचपन से सख्त पालन-पोषण भी बच्चों के शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। वे बीमार होने लगते हैं। इसका खामियाजा उन्हें जीवन भर भुगतना पड़ता है।
दूसरों के सामने डांटना बच्चे को जिद्दी बना सकता है।याद रखें, बच्चों को दूसरों के सामने कभी न डांटें। उसे दूसरों के सामने मारने जैसी शारीरिक सजा न दें, इसलिए वह इसे अपने सम्मान पर हमले के रूप में लेता है। यह बच्चों को जिद्दी और गुस्सा दिलाता है। उनका व्यवहार समय के साथ बदलने लगता है। वे अपने माता-पिता से बातें छिपाते हैं। वे अपना गुस्सा कहीं निकालते हैं। वे धीरे-धीरे हिंसक भी हो जाते हैं।
कई बच्चे मानसिक तनाव से ग्रस्त हैं अमेरिका में हर 10 में से एक बच्चा आज मानसिक तनाव का शिकार है। वैज्ञानिकों ने 12 से 16 साल की उम्र के 23 बेल्जियम के लड़कों और लड़कियों पर अध्ययन किया। इसमें बच्चों ने कहा कि माता-पिता सख्ती से पेश आते हैं। कई बार माता-पिता उन्हें शारीरिक दंड भी देते हैं।
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

जीओ गुजरात के सभी जिला मुख्यालयों में 5G सपोर्ट का विस्तार कर रहा है।

Admin

Brahmastra को लेकर चल रहे बॉयकॉट ट्रेंड के बीच बोलीं Alia Bhatt, ‘फिल्म रिलीज के लिए है अच्छा माहौल…’

Live Bharat Times

गर्मियों में डिहाइड्रेशन ड्रिंक्स से बचें: क्या आप खुद को तरोताजा रखने के लिए कॉफी, सोडा, एनर्जी ड्रिंक पीते हैं? यह आपके लिए खतरनाक है

Live Bharat Times

Leave a Comment