Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़ हेल्थ / लाइफ स्टाइल

खजूर खा कर ही रोजा खोलने का क्यों है रिवाज, जाने वजह और इसके फायदे

इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार इस समय रमजान का पाक महीना चल रहा है। मुस्लिम समुदाय के लोग इस दौरान 30 दिनों तक रोजे का पालन करते हैं। रोजा रखने के दौरान लोग सुबह की सहरी और शाम के इफ्तार के अलावा पूरा दिन पानी भी नहीं पीते हैं। रमजान के इस पाक महीने को इबादत का महीना कहा जाता है और ऐसा माना जाता है की इस समय के दौरान अल्लाह अपने बन्दों के सबसे करीब होते हैं और यही वजह है की इस पूरे महीने लोग इबादत करते हैं।

रमजान के दौरान रोजा रखने वाले शाम के समय सूरज डूबने के बाद इफ्तार करते हैं। इफ्तार की शुरुआत खजूर खाने से होती है और फिर इसके बाद ही भोजन किया जाता है। ऐसा माना जाता है की पैगंम्बर हजरत मोहम्मद साहब को खजूर काफी पसंद था और यह उनका पसंदीदा फल था और उन्होंने भी अपना रोजा 3 खजूर खाकर ही खोला था। बस उसके बाद से मुस्लिम समुदाय के लोग 3 खजूर खाकर ही अपना रोजा खोलते हैं। इसके अलावा खजूर खाने के और भी कई फायदे हैं। जिनके बारे में जानना जरूरी है।

  1. खजूर में भरपूर मात्रा में आयरन होता है और इसलिए शरीर के लिए यह बहुत ही फायदेमंद माना गया है। विशेष कर के प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए खजूर बहुत अच्छा होता है क्योंकि उन्हें आयरन की अधिक आवश्यकता होती है। साथ ही साथ खजूर मां के दूध को भी जरूरी पोषक तत्व देता है।
  2. खजूर खाने में स्वादिष्ट होने के साथ ही साथ कई पौष्टिक तत्वों से भी भरपूर होता है। इसमें प्राकृतिक मिठास होती है जो कि शरीर को भरपूर एनर्जी प्रदान करती है।
  3. खजूर में फाइबर की मात्रा भी बहुत होती है जो कि हमारे पाचन तंत्र की सफाई करने में काम आता है। खजूर खाने से कब्ज की समस्या दूर होती है।
  4. खजूर में पौटेशियम भी भरपूर होता है जो कि हार्ट अटैक के खतरे को कम करने में मददगार हो सकता है।
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

राजस्थान: बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री इस दिन आएंगे उदयपुर! शोभा यात्रा में 30 हजार महिलाएं होंगी शामिल

Live Bharat Times

सीएम शिवराज सिंह की कैबिनेट बैठक होगी आज जानिए किन योजना पर मिलेगी मंजूरी .

Live Bharat Times

भोपाल में कुछ लोगों ने स्ट्रीट डॉग को बेहरमी से पिटा, पशु प्रेमी ने बचाया पुलिस में की शिकायत।

Live Bharat Times