Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
धर्मं / ज्योतिष

Navratri 2021 Day 6: नवरात्र के छठे दिन होती है मां कात्यायनी की पूजा, जानिए पूजा, भोग और विधि

Navratri 2021 Day 6: आज नवरात्रि का छठा दिन है. नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की मां दुर्गा के रूप में पूजा की जाती है।
Navratri 2021 Day 6: नवरात्र के छठे दिन होती है मां कात्यायनी की पूजा, जानिए पूजा, भोग और आरती की विधि
ऐसा माना जाता है कि शहद का भोग पाकर वह बहुत खुश हो जाती है।

Advertisement

नवरात्रि 2021 दिन 6: आज नवरात्रि का छठा दिन है. नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की मां दुर्गा के रूप में पूजा करते हैं । मान्यता है कि मां कात्यायनी की पूजा करने से विवाह में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं और गुरुदेव प्रसन्न होकर विवाह का योग बनाते हैं. ऐसा भी माना जाता है कि अगर सच्चे मन से मां की पूजा की जाए तो दांपत्य जीवन में भी सुख-शांति बनी रहती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार माता कात्यायनी की पूजा करने से भक्त को आज्ञा चक्र जागरण की सिद्धियां स्वतः ही प्राप्त हो जाती हैं। साथ ही इस लोक में स्थित होकर भी वह अलौकिक तेज और प्रभाव से परिपूर्ण भक्त बन जाता है। ऐसा माना जाता है कि मां कात्यायनी की पूजा से रोग, शोक, पीड़ा और भय का नाश होता है।

नवरात्रि 2021 छठा दिन: नवरात्रि के छठे दिन की जाती है मां कात्यायनी की पूजा, जानिए पूजा विधि, मंत्र और भोग

ऐसा माना जाता है कि महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर आदिशक्ति ने अपनी पुत्री के रूप में जन्म लिया था। इसलिए उन्हें कात्यायनी देवि कहा जाता है। मां कात्यायनी को ब्रज की अधिष्ठात्री देवी भी कहाँ जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, गोपियों ने भगवान कृष्ण को पति के रूप में पाने के लिए यमुना नदी के तट पर देवी कात्यायनी की पूजा की थी। कहा जाता है कि मां कात्यायनी ने भी अत्याचारी राक्षस महिषासुर का वध कर तीनों लोकों को अपने आतंक से मुक्त कराया था।

माता कात्यायनी रूप
माँ कात्यायनी का रूप बहुत ही अलौकिक और भव्य है। इनकी 4 भुजाएं हैं। माँ कात्यायनी का ऊपरी दाहिना हाथ अभय मुद्रा में है और निचला वरमुद्रा में है। ऊपरी बाएं हाथ में तलवार और निचले हाथ में कमल का फूल है। मां कात्यायनी हमेशा सिंह की सवारी करती हैं।

माँ कात्यायनी का प्रिय रंग और भोग
मां कात्यायनी का प्रिय रंग लाल है। ऐसा माना जाता है कि शहद का भोग पाकर वह बहुत खुश हो जाती है। नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा करते समय शहद का भोग शुभ माना जाता है।

मां कात्यायनी की पूजा विधि
नवरात्रि के छठे दिन यानी षष्ठी के दिन स्नान कर लाल या पीले वस्त्र धारण करें। सबसे पहले घर के पूजा स्थल नए मंदिर में देवी कात्यायनी की मूर्ति या चित्र स्थापित करें। अब इसे गंगाजल छिड़क कर शुद्ध कर लें। अब माता की मूर्ति के सामने दीपक लगाएं। अब हाथ में फूल लेकर मां को प्रणाम करें। इसके बाद उन्हें पीले फूल, कच्ची हल्दी की गांठ और शहद चढ़ाएं। धूप-दीप से मां की आरती उतारें। आरती के बाद प्रसाद को सभी में बांटें और स्वयं ग्रहण करें।

मां कात्यायनी की आरती
जय जय अम्बे जय कात्यायनी

विश्व की रानी जय जगमाता

बैजनाथ आपका ठिकाना

वहाँ एक वरदान कहा

कई नाम हैं, कई धाम

यह स्थान भी है सुखधाम

हर मंदिर में आपका प्रकाश

कहीं योगेश्वरी महिमा न्यारी

हर जगह उत्सव हैं

हर मंदिर में कहते हैं भगत

कात्यानी रक्षक शरीर

मोह से कटी हुई ग्रंथि

झूठे मोह से छुड़ाने वाला

 

गुरुवार को पूजा

ध्यान कात्यायनी

हर संकट से पार पा लेंगे

भंडारा भर जाएगा

 

कात्यायनी हर परेशानी को दूर करती है

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

महाराष्ट्र: असम सरकार ने भीमाशंकर पर किया दावा ! भड़की कांग्रेस, कहा- BJP अब महाराष्ट्र के ज्योतिर्लिंग चुरा रही…

Admin

महाशिवरात्रि: इस वजह से प्रिय है जल और बेलपत्र

Live Bharat Times

जानिए भोलेनाथ की तीसरी आंख का क्या है रहस्य और खुलने पर क्यों आयीं तबाही

Live Bharat Times

Leave a Comment