Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
भारतराज्य

प्रयागराज माघ मेला 2022: माघ मेला क्षेत्र में 38 कोरोना पॉज़िटिव मिलने के बाद मचा हड़कंप, मेला आज से शुरू; आरटी-पीसीआर रिपोर्ट जरूरी

प्रयागराज मेला प्राधिकरण के मेला अधिकारी शेषमणि पांडे के अनुसार, स्थिति नियंत्रण में है और कोरोना पॉज़िटिव पाए गए लोगों को आइसोलेट कर दिया गया है. मेले में आने वाले लोगों के लिए नेगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट सख्ती से लाना अनिवार्य कर दिया गया है।

Advertisement

प्रयागराज माघ मेला क्षेत्र में 38 नए करोना मरीज़ मिले।
मकर संक्रांति 2022 का पावन पर्व 14 जनवरी को मनाया जा रहा है और प्रयागराज में इस दिन गंगा में आस्था की डुबकी लगाने की पुरानी परंपरा है. यहां आज देश के कोने-कोने से लोग गंगा में डुबकी लगाने पहुंचते हैं। हालांकि, बुरी खबर यह है कि माघ मेला क्षेत्र में 38 नए कोरोना मरीज़ मिले हैं, जिसके बाद प्रशासन अलर्ट पर है. बुधवार तक इस इलाके में 29 पुलिसकर्मी कोरोना से संक्रमित पाए गए, जबकि आज 7 और पुलिसकर्मी संक्रमित पाए गए हैं.

नोडल अधिकारी ऋषि सहाय के मुताबिक कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच इस आयोजन को लेकर प्रयागराज में कोई रोक नहीं है, लेकिन कई पाबंदियां सक्रिय कर दी गई हैं. बताया गया है कि माघ मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की समय-समय पर थर्मल स्कैनिंग की जाएगी. मास्क बांटे जाएंगे और पब्लिक एड्रेस सिस्टम यानी ध्वनि को जागरूक किया जाएगा। इसके अलावा मेले में ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों, नाविकों, सह चालकों का कोविड टेस्ट अनिवार्य होगा। इन सबके अलावा जो लोग वहां पूरे एक महीने रहना चाहते हैं, उन्हें भी अपने साथ कोरोना की आरटीपीसीआर रिपोर्ट लानी होगी। यह भी बताया गया है कि इस बार घाटों की संख्या बढ़ा दी गई है ताकि श्रद्धालुओं की भीड़ जमा न हो.

कोरोना संक्रमण से माघ मेले पर संकट!
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक माघ मेले में आज से लाखों श्रद्धालुओं के जुटने की उम्मीद है और प्रशासन के लिए कोरोना नियमों का पालन करना एक बड़ी चुनौती है. संगम तट पर डुबकी लगाने से लेकर कपड़े बदलने तक लोगों की आमद के बीच सामाजिक दूरी बनाए रखना नामुमकिन होगा। ऐसे में अगर समय रहते कोविड नियमों का पालन करने के लिए ठोस कदम नहीं उठाए गए तो स्थिति और खराब हो सकती है.

 

प्रयागराज में हर साल लगने वाले माघ मेले में एक माह तक चलने वाले जप, तपस्या, ध्यान के लिए टेंटों की नगरी लगाई जा रही है और यहां भी कोरोना नियमों का पालन करना चुनौती है. कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए माघ मेले में आने वाले लोगों के लिए आरटीपीसीआर की रिपोर्ट 48 घंटे पहले रखना अनिवार्य कर दिया गया है. ताकि मेले में संक्रमण को फैलने से रोका जा सके.

सरकार ने जारी की एडवाइजरी
माघ मेले में हर कैंप में रजिस्टर रखने, वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने का सर्टिफिकेट लाने जैसी सख्ती के बीच श्रद्धालुओं को प्रोटोकॉल का पालन कराने की बात कही जा रही है, वहीं श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने लगी है. प्रयागराज मेला प्राधिकरण के मेल अधिकारी शेषमणि पांडे के अनुसार हर चेक पॉइंट पर स्वास्थ्य विभाग की टीमें तैनात रहेंगी.

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए हर स्तर पर सख्त और सतर्क व्यवस्था की गई है। संत-भक्तों को लगातार कोविड-अनुपालन व्यवहार का पालन करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। अब तक जो लोग संक्रमण की चपेट में आए हैं उन्हें आइसोलेट कर दिया गया है। मेला कोविड प्रोटोकॉल के तहत ही लगेगा। कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए माघ मेले में आने वाले लोगों के लिए आरटीपीसीआर की रिपोर्ट 48 घंटे पहले रखना अनिवार्य कर दिया गया है.

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

350 करोड़ रुपये की लागत से एयरपोर्ट की तरह चमकने वाला यह गाजियाबाद का नया रेलवे स्टेशन

Admin

जनरल बिपिन रावत के निधन पर संसद में बोले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, ‘मैं आज लोकसभा में गहरे दर्द और भारी मन से खड़ा हूं’

Live Bharat Times

गुजरात चुनाव में आप के लिए बीजेपी का ‘मिशन जीरो’, पीएम मोदी-अमित शाह बना रहे हैं रणनीति

Admin

Leave a Comment