Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
दुनिया ब्रेकिंग न्यूज़

वैश्विक तेल बाजार में भारत की बड़ी सफलता, पश्चिमी देशों को बेच रहा सस्ता रूसी कच्चा तेल

भारत रूस से ज्यादा से ज्यादा सस्ता तेल खरीदकर वैश्विक तेल बाजार में अहम भूमिका निभा रहा है। भारत रूस से सस्ता तेल खरीदकर यूरोप और अमेरिका को दे रहा है। हालांकि, कुछ देश भारत की आलोचना कर रहे हैं, क्योंकि उनका मानना ​​है कि भारत के ऐसा करने की वजह से रूस की ऊर्जा आय को कम करने में पश्चिमी देशों को सफलता नहीं मिल पा रही है। रूस का यूक्रेन पर हमले की वजह से पश्चिमी देश रूस से नाराज हैं और लगातार कई सख्त प्रतिबंध लगा रहे हैं।

भारत वैश्विक तेल बाजार का केंद्र बन गया
रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध शुरू होने के बाद वैश्विक तेल बाजार में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। भारत वैश्विक तेल बाजार का केंद्र बन रहा है जब यूरोप द्वारा रूस के खिलाफ प्रतिबंध कड़े कर दिए गए हैं। वाशिंगटन थिंक टैंक सेंटर फॉर स्ट्रेटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज के बेन काहिल ने कहा कि अमेरिकी ट्रेजरी के अधिकारियों के दो मुख्य लक्ष्य हैं – एक बाजार को अच्छी तरह से आपूर्ति करना और दूसरा रूस के तेल राजस्व को कम करना … वे जानते हैं कि भारत और चीन रूस से रिफाइनर खरीदना कोई सस्ता कच्चा तेल खरीदकर और बाजार की कीमतों पर उत्पादों का निर्यात करके भारी मुनाफा कमा सकता है। हालांकि, उन्हें इससे कोई दिक्कत नहीं है।

भारत नियमों के अनुसार काम करता है
यूरोपीय संघ के दिशा-निर्देशों के अनुसार भारत नियमों के तहत काम कर रहा है। जब रूसी कच्चे तेल को दूसरे देश में ईंधन में संसाधित किया जाता है, जैसे कि भारत, इन उत्पादों को यूरोपीय देशों में वितरित किया जा सकता है, क्योंकि उन्हें रूसी मूल का नहीं माना जाता है। इससे पहले भी यूक्रेनी सरकार रूस से कच्चा तेल लेने की वजह से भारत सरकार की आलोचना कर चुकी है। यूक्रेनी सरकार का कहना है कि भारत रूस से कच्चा तेल नहीं बल्कि यूक्रेन के लोगों का खून खरीद रहा है।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

घर की छोटी सी जगह में भी कर सकते हे आलू की खेती।

Live Bharat Times

कच्ची सब्जियों के सेवन से होने वाले इन विशेष फायदों के बारे में जरूर जाने

Live Bharat Times

नोटबंदी मोदी सरकार का एक असरदार फैसला था : पुष्कर सिंह धामी

Admin

Leave a Comment