Hindi News, Latest News in Hindi, हिन्दी समाचार, Hindi Newspaper
बिज़नस ब्रेकिंग न्यूज़

जिद्दी महंगाई से अभी नहीं मिलेगी राहत, RBI ने बताया चालू वित्त वर्ष में कितनी रहेगी महंगाई

जिद्दी महंगाई से जल्द राहत नहीं मिलने वाली है। आज मौद्रिक पाॅलिसी समिति के आउटकम का ऐलान करते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि महंगाई से फौरी तौर पर राहत नहीं मिलेगी। इसके साथ ही आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष (2023-24) के लिए खुदरा मुद्रास्फीति के अनुमान को मामूली घटाकर 5.2 प्रतिशत कर दिया है। फरवरी की मौद्रिक समीक्षा में इसके 5.3 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था। हालांकि, केंद्रीय बैंक ने सतर्क किया है कि अभी महंगाई से ‘लड़ाई’ समाप्त नहीं हुई है।

Advertisement

ओपेक द्वारा कच्चे तेल में कटौती से बुरा असर

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बृहस्पतिवार को 2023-24 की पहली द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा बैठक के नतीजों की घोषणा करते हुए कहा कि तेल उत्पादक देशों के संगठन ओपेक के कच्चे तेल के उत्पादन को घटाने के फैसले से मुद्रास्फीति का परिदृश्य गतिशील बना हुआ है। दास ने कहा कि सामान्य मानसून के बीच यदि कच्चे तेल के दाम औसतन 80 डॉलर प्रति बैरल रहते हैं, तो चालू वित्त वर्ष में खुदरा मुद्रास्फीति 5.2 प्रतिशत रहेगी। जून तिमाही में मुद्रास्फीति के 5.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है। सितंबर और दिसंबर तिमाही में यह बढ़कर 5.4 प्रतिशत पर पहुंच सकती है। उसके बाद मार्च, 2024 की तिमाही में इसके घटकर 5.2 प्रतिशत पर आने का अनुमान है।

केंद्रीय बैंक की इसके खिलाफ ‘लड़ाई’ जारी रहेगी

दास ने कहा कि जबतक मुद्रास्फीति संतोषजनक दायरे में नहीं आती है, केंद्रीय बैंक की इसके खिलाफ ‘लड़ाई’ जारी रहेगी। रिजर्व बैंक को मुद्रास्फीति को चार प्रतिशत (दो प्रतिशत ऊपर या नीचे) के दायरे में रखने का लक्ष्य दिया गया है। खुदरा मुद्रास्फीति दो माह से रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से ऊपर बनी हुई है। फरवरी में यह 6.44 प्रतिशत पर थी।

 

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

वाराणसी : पंजाब के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल आज वाराणसी पहुंचे

Admin

Health Tips : देर रात सोने की आदतें हैं आपके दिल के लिए खतरनाक, जानिए क्या कहते हैं स्वास्थ्य विशेषज्ञ ?

Live Bharat Times

सौरव गांगुली जय शाह : गांगुली, जय शाह बीसीसीआई में बने रहेंगे; SC द्वारा संविधान में संशोधन

Live Bharat Times

Leave a Comment